Diwali Kya Hai? Kyon, Kaise Manate Hai – शुभ दिपावली 2016

दिवाली क्या है? क्यों मनाई जाती है, इसके बारे में आज हम चर्चा करने वाले है. ये इंडिया में मनाए जाने वाला सबसे बड़ा तौहार है.

Diwali Kya Hai, Kyon Manayi Jati Hai


दिवाली, दिपावली क्या है?

इस तौहार को दिवाली या फिर दीपावली भी कहा जाता है. दिवाली याने रौशनी, दियो का तौहार.
दिवाली दियो का तौहार है, याने इन दिनों में चारो और प्रकाश ही प्रकाश होता है, सभी तरह का वातावरण आनंदमय होता है. इस तौहार को अंधकार पर रोशनी की विजय माना जाता है. इंडिया में इस तौहार को बड़े धूम धाम से मनाया जाता है. दिवाली पर फटाके फोड़े जाते है.



दिवाली कब मनाई जाती है?
दिवाली का तौहार दशहरे के बाद मनाया जाता है. दिवाली का तौहार अकसर ऑक्टोबर या नोव्हेंबर महीने में आता है. दिवाली की रात अमावस्या की रात होती है, और इसका अँधेरे को दूर करने के लिए दिए जलाए जाते है.
Diya


क्यों मनाई जाती है?
कहा जाता है की, दिवाली के दिन अयोधा के राजा श्री राम 14 वर्षो का वनवास को पूरा करके अयोधा को वापीस लोटे थे. उनोने रावण का वध करके उनकी पत्नी सीता को रावण के कैद से छुडाया था. इसलिए राम के अयोधा लौटने पर उसी दिन से दिवाली का त्योहार मनाया जाता है.

दिवाली कैसे मनाई जाती है?
दिवाली के दिन सभी लोग अपने घर, दुकानों की अच्छे से साफ सफाई करते है. घर में रंगोली निकली जाती है. सभी तरफ दिए जलाए जाते है. दिवाली के लिए लोग नए कपडे, नए मोबाइल, गाड़िया, सोना खरीदते है.
दिवाली की रात को घर में, छत पर दिए जलाए जाते है, दिवाली में घर में बढ़िया मिठाईयां बनायीं जाती है.
दिवाली में माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है, एसा कहा जाता है, की लक्ष्मी माता की पूजा करने से धन की प्राप्ती थता धन में बढोतरी हो जाती है.
यह तौहार सामुहिक तौर पे याने घर के सभी लोग, दोस्त मिलकर मनाते है, जिससे भाई चारा बढ़ जाता है. एक दुसरे से मिलते है, और एक दुसरे को मिठाईयां दी जाती है.
दिवाली के लिए सभी कॉलेज, स्कूल को भी छुट्टिया दी जाती है.

दिवाली मनाते समय रखे इन बातो का ध्यान :
1. अभी दिवाली मनाते समय बेहत आवाज करने वाले, धुवा छोड़ने वाले फठाके फोड़े जाते है, तो एसा ना करते हुए कम से कम फठाके फोड़े, और कम आवाज करने वाले, जिससे वातावरण प्रदूषित ना हो इसकी और ध्यान दे.
2. छोटे बच्चो के हात में फठाके ना दे.
3. मोमबत्ती जलाने की बजाय मिठी के दिए जलाए. क्यों की मोमबत्ती मे अलग अलग केमिकल होते है.
4. फठाके फोड़ते समय अपने आस पास ध्यान दे की कही कही फठाके जलने के बाद कही आग ना लग जाए.

नोट:
दिवाली में फठाके ना ही फोड़े तो अच्छा है, क्यों की इससे निकलने वाला धुवा केमिकल युक्त होता है, जिससे वातावरण दूषित हो जाता है, और साथ में ही फठाके की वजह से कई धुर्गठनाए भी होती है. इसलिए दिवाली में सिर्फ दिए जलाकर, अपने दोस्तों रिश्तेदारों को साथ दिवाली मनाए.

आपको और आपके परिवारजनों को दिवाली की हार्धिक शुभकामनए  :)


Happy Diwali………………………..

Author:

Professional Bloggger and Author of Hindimeearn.com Completed Master Degree in Computer Science.Passionate about Blogging,Make Money and Web-Designing.Best Knowledge of HTML,PHP,.NET,C,C++ and other programming languages. Know More About Me...

Follow Us :


Related Posts
Previous
« Prev Post