कम्प्यूटर के अनुप्रयोग , उपयोग -application of computer in Hindi

 कम्प्यूटर के अनुप्रयोग , उपयोग -application of computer in Hindi

कम्प्यूटर के अनुप्रयोग, कंप्यूटर का उपयोग (Applications of computer), आज के इन्टरनेट युग में कंप्यूटर का इस्तमाल आम बात हो गयी है. कई सारी गवर्नमेंट एग्जाम में आपको application of computer ये सवाल पूछा जाता है.

कम्प्यूटर के अनुप्रयोग , उपयोग -application of computer in Hindi


Application of Computer: कंप्यूटर का उपयोग

1. Business:

कंप्यूटर किसी भी डाटा को सेव रख सकता है. कितना भी पेचीदा कैलकुलेशन एक्यूरेट करता है. इसलिए बिज़नस के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है.

जैसे stock market, सभी प्रकार की receipt, employee का डेटाबेस को मैनेज करने के लिए कंप्यूटर ही इस्तमाल होता है.


2. Education:

हमारी शिक्षा प्रणाली में कंप्यूटर का बड़ा योगदान रहा है. आज हर जगह हमारी एजुकेशन सिस्टम में कंप्यूटर दिखाई दे रहा है.

चाहे वो एग्जाम के ऑनलाइन फॉर्म भरने के लिए हो, या ऑनलाइन एग्जाम देने के लिए हो.

कंप्यूटर पर ही आज स्टूडेंट सिख रहे है. कंप्यूटर की वजह से आज हम के चुटकियो में हम अपनी एग्जाम का रिजल्ट देख सकते है.


3. Bank:

बैंक सेक्टर में आज कंप्यूटर की वजह से काफी बदलाव हुआ है. पहले हमे बैंक में जाकर अकाउंट खोलना पड़ता था, पैसे निकालने के लिए हम बैंक में लाइन में खड़ा रहना पड़ता था, लेकिन आज इन्टरनेट और कंप्यूटर की हेल्प से हम घर बैठे सभी काम कर सकते है.


4. Marketing:

आज मार्केटिंग और विज्ञापन का दौर है, अपने बिज़नस की मार्केटिंग कंप्यूटर से कर सकते है.


5. Hospital:

 

कंप्यूटर का हॉस्पिटल में भी अब बहुत इस्तमाल होता हुआ दिख रहा है. पेशेंट की जानकारी डाटाबेस में सेव करना, सभी दवाईयों की जानकारी कंप्यूटर में रखना.कंप्यूटर की मदद से आज बहुत से ऑपरेशन संभह हो रहे है.


6. Communication:

कंप्यूटर आने से कम्युनिकेशन की चिंता ही मिट गयी है, चुटकिओ में हम अपने दूर बैठे दोस्त को ईमेल कर सकते है और अपना सन्देश भेज सकते है.

साथ ही सोशल नेटवर्किंग जैसी साईट ने तो पुरे विश्व को हमारे नजदीक लाकर खड़ा कर दिया है.

विडियो कालिंग से जिससे चाहे उससे बात कर सकते है.


7. Military:

मिलिट्री में कंप्यूटर का इस्तमाल होता है, मिसाइल्स, टैंक इन सब के लिए कंप्यूटर का इस्तमाल होता है.

एक दुसरे को सन्देश भेजने के लिए भी इसका इस्तमाल होता है.


8. Government Sector:

गवर्नमेंट की जितने भी कामकाज है वो अब कंप्यूटर पर और ऑनलाइन हो गए है. पुराने ज़माने में रजिस्टर में लिखने की बजाय अब सब डाटा कंप्यूटर में सेव किया जाता है. और जितनी भी गवर्नमेंट सुविधा है वो अब ऑनलाइन प्राप्त की जा सकती है.


9. Online shopping:

 मार्किट में जाकर कोई चीज़ खरीदने का जमाना अब चला गया. हर कोई घर बैठे कंप्यूटर से ऑनलाइन  शौपिंग कर रहा है.

ऑनलाइन शौपिंग का फायदा ये होता है की कोई भी चीज़ हमारे घर पर आ जाती है. जिससे हमारा काफी समाय और पैसा बचता है.


10. Entertainment:

कंप्यूटर आज मनोंरजन का सबसे बड़ा साधन बन गया है. बच्चो से लेकर बुधे तक इस पर अपना समय बिताकर मनोरंजन कर सकते है.

बच्चे गेम खेलकर , तो बड़े लोग इबुक पढ़ के, मूवी देखकर अपना Entertainment करते है. तो आज कंप्यूटर में हमारी जीवन में एक नयी क्रांति लाई है.

आज हर के क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग होता हुआ नज़र आ रहा है, कंप्यूटर के बिना अब हम हमारा जीवन अधुरा सा नज़र आता है | हर एक जगह हमे कंप्यूटर का अनुप्रयोग , होता हुआ दिखाई दे रहा है |

 

Maha ESeva Kendra Registration- महा ई-सेवा केंद्र रजिस्ट्रेशन

maha e seva kendra registration, Maha eSeva Kendra का रजिस्ट्रेशन कैसे करे, VLE Registration maha e seva Kendra. maha e seva kendra kaise suru karave,maha e seva kendra registration process to start, maha e seva kendra licence process,


कई लोग अपना महा इ सेवा केंद्र शुरू करने के बारे में सोच रहे होंगे. लेकिन उनको पूरी जानकारी नहीं होगी की इसका रजिस्ट्रेशन कहा करना होगा.

इसके लिए कोण कोण से जरुरी डॉक्यूमेंट हमे देने होते है. आपमें से कई लोग अपना महा ईसेवा केंद्र शुरू करना चाहते है, तो चलिए हम आपको इसकी पूरी प्रोसीजर बता देते है.

महा ई-सेवा केंद्र क्या है? Maha ESeva Kendra

महाराष्ट्र सरकार का महा ऑनलाइन वेब पोर्टल है. जहा से नागरिको को लगने वाले जरुरी डॉक्यूमेंट उपलब्ध किए जाते है.

महा सेवा केंद्रों के माध्यम से विभिन्न प्रमाण पत्र जैसे लाइसेंस और अन्य सेवाएं प्रदान की जा रही हैं. केन्द्रीय बोर्ड नागरिक द्वारा आवश्यक सेवाओं के लिए आवेदन को भरता है, और नागरिक किसी भी बाधा के बिना आवश्यक सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं.

नागरिकों को इन महा ई-सेवा केंद्रों के माध्यम से 7/12 प्रतिलेख, निवासी प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र और कई उपयोगी दस्तावेजों के लाभ मिल रहे हैं.

अगर आप भी अपने गाव, तालुका में अपना खुद का महा ई सेवा केंद्र शुरू करना चाहते है, तो निचे दी गयी स्टेप को फॉलो करे.


महा ई-सेवा केंद्र के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करे : maha e seva kendra registration process

महा ई सेवा केंद्र उन लोगो के लिए बहुत जल्द मिल जाता है. जिनके पास CSC सेण्टर है.अगर आपके पास भी कॉमन सर्विस सेण्टर CSC सेण्टर है, तो आपके लिए ये बहुत ही अच्छी बात है.

स्टेप 1:

सबसे पहले आपको https://mahaonline.gov.in पर जाना होगा. अब वहा पर जाने के बाद आपको उस पेज पर राईट साइड में कांटेक्ट us (संपर्क) पर क्लिक करे.

महा ई-सेवा केंद्र रजिस्ट्रेशन


स्टेप 2:

संपर्क पर क्लिक करने के बाद आपको एक दूसरा पेज मिलेगा जिसमे आपको New VLE Registration Link दिखाई देगी जहा पर “इथे क्लिक करा” पे क्लिक करे.

new vle registration maha eseva kendra


स्टेप 3:

उस लिंक पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल जाएगा. फॉर्म में आपको अपनी पूरी जानकारी फिल करनी होगी.

maha eseva kendra regsitration


फॉर्म में :

अपना आधार नंबर, अपना नाम, माँ का नाम, पिता का नाम, पासपोर्ट साइज़ फोटो, इनकम, आपका पूरा एड्रेस डालना होगा.

शॉप की डिटेल्स जैसे शॉप खुद का है या रेंट पे, जहग कितनी है. लाइट लोड शेडिंग है या नहीं, अगर है, तो बैकअप के लिए क्या सुविधा है.

अपना पैन कार्ड नंबर, एजुकेशन ये सब डिटेल्स भर कर फॉर्म को सबमिट करना होगा.


स्टेप 4:

फॉर्म सबमिट करने के बाद 15 दिन के अंदर आपको महाऑनलाइन की तरफ से मेल प्राप्त होगा. जिसमे आगे की प्रोसीजर आपको बताई जाएगी.

आपको बाद में अपने डॉक्यूमेंट भी वेरीफाई कराने होंगे. जिसकी पूरी डिटेल्स आपको आए हुए मेल में दी जाएगी.

तो इस प्रकार एक VLE महा इ-सेवा केंद्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकता है.


जब आपके पास महा इ सेवा केन्द की लॉग इन id और पासवर्ड आ जायेगा तो आपको निचे दी हुई लिंक से लॉग इन करना होगा.

https://cscservices.mahaonline.gov.in/DashBoard/Login.aspx

अगर आपको ऊपर दी गयी किसी स्टेप में कोई प्रॉब्लम हो तो आप निचे कमेंट में हम से पूछ सकते है.


Update: अब महा ई-सेवा केंद्र के लिए ऑनलाइन आवेदन बंद हो गए है, क्यों की इनका जो टारगेट था वो पूरा हो गया है, हर एक तहशील में महा-ई-सेवा केंद्र शुरू है |

अब नए महा-ई-सेतु-सेवा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं होता है, जिस जिले में जगह vacant हो गई है, वहा पर एक advertisement निकाली जाती है, जिसके लिए लोग आवेदन कर सकते है | या फिर अपने जिले के collector office में जाकर भी आप महा-ई-सेवा केंद्र शुरू करने के लिए मांग कर सकते है |

MSCIT Full Form: MSCIT Computer Course Information in Marathi

MSCIT Full Form : MSCIT Computer Course Information in Marathi

Here we will discuss about MSCIT full form as well as MSCIT Long Form, MSCIT is computer related basic course which is popular in Maharashtra.

If you are student and want to completed mscit course, then you must know about MSCIT full form as well as course details.

mscit full form


Most of the student in Maharashtra doing mscit course in their school vacation. In Maharashtra MSCIT course is compulsory for each and every government as well as private job. Because in era of Internet everyone should know about basic of Internet.  Hence MKCL Maharashtra Knowledge Corporation Limited designed MSCIT Course.

 

What is a MS-CIT course?


MS-CIT: Maharashtra State Certificate in Information Technology. MS-CIT is an Information Technology (IT) literacy course started by MKCL in the year 2001. It is the most popular IT Literacy course in Maharashtra.

 

MSCIT Full form Long Form in Marathi:

MSCIT full form is Maharashtra State Certificate in Information Technology - माहिती तंत्रज्ञानातील महाराष्ट्र राज्य प्रमाणपत्र MS-CIT हा MKCL द्वारे 2001 साली सुरू केलेला माहिती तंत्रज्ञान (IT) साक्षरता अभ्यासक्रम आहे. हा महाराष्ट्रातील सर्वात लोकप्रिय IT साक्षरता अभ्यासक्रम आहे. 21 व्या शतकात, बहुतेक नवीन कृती करण्यायोग्य ज्ञान डिजिटल पद्धतीने जन्माला येत आहे.

 

MSCIT full form in Hindi:

माइक्रोसॉफ्ट सर्टिफिकेट इन इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MSCIT) एक कोर्स है जो इंटरनेट, ईमेल, इंटरनेट सिक्यूरिटी, ऑपरेटिंग सिस्टम और आईटी में अन्य विषयों को शामिल करता है। यह एक प्रशिक्षण कोर्स है जो भारत की विभिन्न राज्यों व शहरों में उपलब्ध है। इस माध्यम से, लोग सम्पूर्ण इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी को समझ सकते हैं और आईटी में नवीनतम उन्नयनों के समाचार से अवगत हो सकते हैं।


MSCIT Medium:

mscit हा कोर्स तुम्हाला English , मराठी आणि हिंदी या तिनी भाषेत शिकायला मिळनार आहे.


MSCIT Course Syllabus

mscit कोर्स मधे तुम्हाला theory आणि प्रैक्टिकल असे दोनी प्रकारे शिकवले जाते. यामधे तुम्हाला प्रैक्टिकल साठी रोज 1 तास वेळ दिला जातो.

mscit syllabus in marathi
mscit syllabus in marathi


Theory:
Inform Content - 50 Hours
eLearning of Classroom Content : Daily 1 hour / Session
On ALC Computer or On Learner Smartphone or In ALC Classroom
Practical: Perform Content - 50 Hours
eLearning of Lab Content on Computer only

 

MSCIT अभ्यासक्रम: MSCIT कोर्समध्ये काय शिकवले जाते ?

MSCIT कोर्समध्ये तुम्हाला खालील प्रकारचे विषय शिकवले जातात

ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System ) : यामध्ये तुम्हाला विंडोज 10 किंवा विंडोज 11 सारखी ऑपरेटिंग सिस्टीम आणि त्यांची वैशिष्ट्ये आणि विविध पर्यायांबद्दल शिकवले जाते.

.
एमएस वर्ड MS Word: यामध्ये तुम्हाला एमएस वर्ड बद्दल माहिती दिली जाते, ज्यामध्ये तुम्हाला लेटर मेकिंग, रिझ्युम मेकिंग, डॉक्युमेंट मेकिंग आणि एमएस वर्डचे विविध पर्याय यांसारख्या विविध विषयांबद्दल सांगितले जाते.


MS Excel: यामध्ये तुम्हाला MS Excel बद्दल माहिती दिली जाते, ज्यामध्ये तुम्हाला Row, Cells, Column, Formula, Function, Pivot Table, Conditional Formatting असे विविध पर्याय सांगितले जातात.


MS PowerPoint: यामध्ये तुम्हाला MS PowerPoint बद्दल माहिती दिली जाते, ज्यामध्ये तुम्हाला Slide, Slideshow, Presentation, Animation इत्यादी बद्दल सांगितले जाते.


MS Outlook: यामध्ये तुम्हाला MS Outlook बद्दल माहिती दिली जाते, ज्यामध्ये तुम्हाला Email Compose, Send, Receive, Forward इत्यादी बद्दल सांगितले जाते.


इंटरनेट एक्सप्लोरर आणि मोबाइल Apps: यामध्ये तुम्हाला इंटरनेट ब्राउझर, ऑनलाइन शॉपिंग, ऑनलाइन संगीत, व्हिडिओ आणि मोबाइल Apps सारखी बरीच माहिती दिली जाते.

 

सरकारी योजना आणि दस्तऐवज (Government Scheme & Documents) : या विषयात, तुम्हाला सरकारी वेबसाइट आणि त्याच्याशी संबंधित माहिती दिली जाते, ज्यामध्ये तुम्हाला पॅन, आधार, मनरेगा, जन्म प्रमाणपत्र, मृत्यू प्रमाणपत्र, वाहन परवाना, पासपोर्ट, डिजीलॉकर इ. या विषयाची माहिती दिली जाते. सायबर सिक्युरिटी: या विषयात सायबर सुरक्षेशी संबंधित माहिती जाणून घेतली जाते.

 

MSCIT Fees Structure

mscit साठी ग्रामीण भागात 4500 रुपए एवढी फी आहे, जर तुम्ही ती 2 टप्यात भरली तर मग 4700 भरावी लागेल. आणि मुंबई मध्ये 5000/ रुपए एवढी फी भरावी लागेल.

MS-CIT fee applicable for all Modes MS-CIT at ALC, MS-CIT Online and MS-CIT at Satellite Center

For Mumbai Metropolitan Region Development Authority (MMRDA) Region:

Mode

Total Fee (Rupees)

1st Installment
(Rupees)

2nd Installment
(Rupees)

Single Installment

5000/-

5000/-

N/A

Two Installments

5200/-

2600/-

2600/-

 

Total fee is including of Course fees, Examination fees and Certification fees.

Except Mumbai Metropolitan Region Development Authority (MMRDA) Region (for Rest of Maharashtra):

Mode

Total Fee (Rupees)

1st Installment
(Rupees)

2nd Installment
(Rupees)

Single Installment

4500/-

4500/-

N/A

Two Installments

4700/-

2350/-

2350/-

 

Total fee is including of Course fees, Examination fees and Certification fees

 

FAQS Regarding MSCIT 

MSCIT Full Form Marathi: MS CIT चा पूर्ण फॉर्म काय आहे?

MS-CIT चा Full Form महाराष्ट्र स्टेट सर्टिफिकेट इन टेक्नॉलॉजी (Maharashtra state certificate in Technology) असा होतो.

 

Mscit course fees near me: ms-cit course fees
MSCIT Course Fees is 4500 for Rural Area and 5000 for Metropolitan Region Area like (Mumbai)

 

MSCIT Certificate मला कधी मिळेल?

जेव्हा तुमची ऑनलाइन exam होईल त्याच्या नंतर लगेच ऑनलाइन प्रिंट तुम्हाला मिळेल. आणि MSCIT चे सर्टिफिकेट तुम्हाला नंतर 1-2 महिन्यानी तुम्ही जिथे mscit कोर्स पूर्ण केला आहे तिथे भेटून जाईल.

 

एमएससीआयटी म्हणजे काय इन मराठी ? MSCIT mhanje kay ?

एम एस सी आय टी म्हणजे महाराष्ट्र स्टेट सर्टिफिकेट इन इन्फॉर्मेशन टेक्नॉलॉजी. कोर्स याचा मराठी अर्थ असा होतो की महाराष्ट्र राज्यातील माहिती तंत्रज्ञानातील सर्टिफिकेट.

 

एम एस सी आय टी करण्याचे फायदे: MSCIT Karane ke Fayde :

एम एस सी आय टी केल्याने तुम्हाला माहिती तंत्रज्ञानातील मूलभूत ज्ञान प्राप्त होते तसेच कम्प्युटर हाताळण्याची तुम्हाला प्रॅक्टिस होऊन जाते महाराष्ट्र मध्ये कुठल्याही गव्हर्मेंट किंवा प्रायव्हेट जॉब साठी तुम्हाला एमएससीआयटी येणे अनिवार्य आहे.

 

How to get MSCIT certificate online (Duplicate MSCIT Certificate)

MSCIT प्रमाणपत्र हरवले किंवा खराब झाले असेल तर डुप्लीकेट MSCIT प्रमाणपत्र कसे मिळवावे, (How to get duplicate MSCIT certificate online) डुप्लिकेट MSCIT प्रमाणपत्र मिळवण्यासाठी आपल्याला एक अर्ज नमुना डाउनलोड करून तो खालील प्रमाणे भरून “The Secretary, Maharashtra State Board of Technical Education” यांच्या पत्यावर पाठवावा लागेल.


हा फॉर्म तुम्हाला भरता येत नसेल तर तुम्ही जिथे mscit course पूर्ण केला आहे, तिथून भरून घ्या किंवा मग तुमचा जवळील mscit center वर जाऊन तो फॉर्म भरून घ्या. हा फॉर्म कुठे आणि कसा पाठवायचा आहे हे या फॉर्म मध्ये दिला आहे.

 

जर वर दिलेली माहिती जर आवडली असेल तर तुमच्या मित्रासोबत whatsapp, फेसबुक वर नक्की शेयर करा. आणि आमच्या टेलीग्राम चैनल ला नक्की ज्वाइन करा.

जीमेल आईडी कैसे बनाते : Gmail Id Kaise Banaye

जीमेल आईडी कैसे बनाते : Gmail Id Kaise Banaye. आज के इन्टरनेट युग में हमारे पास अपनी खुद की पहचान बहुत जरुरी है, और इसकी ओर पहला कदम है ईमेल अकाउंट बनाना.


जीमेल आईडी कैसे बनाते : Gmail Id Kaise Banaye



इन्टरनेट के जरिए किसी को भी मेसेज, डॉक्यूमेंट, भेजने के लिए हम ईमेल का इस्तमाल करते है. सबसे पहले ईमेल क्या है इसके बारे में जानते है.

ईमेल ID क्या होता है?
इमेल id को इलेक्ट्रॉनिक मेल कहा जाता है. इसके जरिए हम किसी को भी मेसेज, डॉक्यूमेंट भेज सकते है.
जैसे डाकघर में डाकिया पत्र लेकर जाता है और हम अपने रिश्तेदारों को पत्र भेजते है, उसी प्रकार ईमेल भी काम करता है. इन्टरनेट डाकिया की भूमिका करता है और ईमेल हमारे पत्र की.

इसके लिए हमारे पास अपना ईमेल अकाउंट होना बहुत जरुरी होता है.

Google की जीमेल ये फ्री सर्विस है, जहा पर हम ईमेल अकाउंट बना सकते है.

आपको जहा जहा ऑनलाइन ईमेल id पूछा जायेगा वहां पे आपको अपना ये ईमेल एड्रेस देना होता है.
अगर आपके पास एंड्राइड मोबाइल है और आप गूगल प्ले स्टोर पर अकाउंट बनाना चाहते है तो वहा पे भी आपको ईमेल की जरुरत पड़ती है.

आज कल इन्टरनेट पर कही पर भी अपना अकाउंट बनाने के लिए ईमेल कंपल्सरी है.

जीमेल पर अकाउंट कैसे बनाए:

अगर आप जीमेल पर अपना अकाउंट बनाना चाहते है तो निचे दी गयी स्टेप फॉलो करे.

1. सबसे पहले अपने ब्राउज़र में gmail.com वेबसाइट डाले और ओपन करे.

2. वहा पे जाते है निचे create a account पे क्लिक करे.


Create a Account


अब आपके सामने एक फॉर्म दिखाई देगा. उसमे निचे की तरह अपनी इनफार्मेशन फिल करनी है.
Name: इसमें अपना फर्स्ट और लास्ट नाम डाले.
Choose your username: यहाँ पे आपको किस तरह के ईमेल id चाहिए वो नाम डाले आम तौर पर अपना नाम, ही रहें दे.
e.g. demo@gmail.com
Create a Password: अकाउंट के लिए पासवर्ड सेट करे उसमे नंबर, करैक्टर होने चाहिए.
e.g. I@m$Umesh
Confirm a Password: पासवर्ड दोबारा डाले.
e.g. I@m$Umesh
Birthday: अपनी जन्मतिथि डाले.
Gender: मेल, फीमेल सेलेक्ट करे.
Mobile Phone: अपना मोबाइल नंबर डाले.
Your current email Id: अगर आपके पास कोई पुराना ईमेल है तो यहाँ डाले और नहीं है तो उसको वैसे ही छोड़ दे.
Location: India
Form Fill Kare


Next Step पे क्लिक करे.

3. जीमेल की टर्म और कंडीशन को स्वीकार करे.

Terms and condition accept kare


4. अब आपके मोबाइल नंबर पर एक वेरिफिकेशन कोड के लिए पूछा जाएगा मोबाइल नंबर डालकर टेक्स्ट मेसेज सेलेक्ट करके continue पे क्लिक करे.
Mobile Number Dale


5. आपके मोबाइल पर एक मेसेज आएगा जिसमे 6 डिजिट का एक कोड होगा जिसको वेरिफिकेशन बॉक्स में डालना होगा और continue पर क्लिक करना होगा.

Code Dale


6.आपको वेलकम का मेसेज दिखाई देगा. आपका ईमेल तैयार हो गया है. अब आपको जीमेल की टीम से वेलकम मेल आ जायेंगे.
Welcome Message


तो इस तरह सिंपल स्टेप को फॉलो करके आप भी अपना खुद का ईमेल बना सकते है, तो देर किस बात की है आज ही अपना ईमेल बना ले.

और आपको कुछ प्रॉब्लम हो तो आप कमेंट में हम से पुछ सकते है, हम आपकी पूरी सहायता करने के कोशिश करेंगे.


क्रेडिट और डेबिट कार्ड क्या होता है ? Difference Between Credit adn Debit Card Hindi

आज की इस कैशलेस की दुनिया में हमे हमे डेबिट, क्रेडिट कार्ड के बारे में पूरी जानकारी होनी जरुरी है.
क्यों की कई लोगो को क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड के बिच में क्या अंतर होता है ये पता नहीं होता है. Difference Between Credit adn Debit Card Hindi

क्रेडिट और डेबिट कार्ड क्या होता है ?

उनको लगता है की ये दोनों कार्ड एक ही है, लेकिन एसा नहीं है, इस दोनों में काफी फर्क है, जो हम इस लेख में डिटेल्स में जानने वाले है.

Credit Card क्या होता है?

ये एक प्लास्टिक का कार्ड होता है, जिसको हम अपनी भाषा में उधार कार्ड भी कह सकते है. क्रेडिट कार्ड की खासियत ये होती है की अगर हमारे बैंक अकाउंट में पैसे नहीं है फिर भी हम क्रेडिट कार्ड की मदद से कही से शौपिंग कर सकते है.
क्रेडिट कार्ड से हम वस्तुए , सेवाए खरीद सकते है, और बाद में इनका भुकतान कर सकते है. लेकिन हमे ये भुकतान हमे दिए हुए निर्धारीत समय पर करना होता है. और साथ में इसके बदले में हमे कुछ ब्याज भी देना पड़ता है.
जरुरत पड़ने पर क्रेडिट कार्ड से हम एटीएम से पैसे भी निकाल सकते है.

क्रेडिट कार्ड इस्तमाल करने से होने वाले फायदे:

1. बिना पैसे के भी शौपिंग, ऑनलाइन पेमेंट कर सकते है.

2. अपने इनकम पर हमे क्रेडिट मिलता है, याने हमारा इनकम जितना ज्यादा होगा उतनी ही क्रेडिट लिमिट ज्यादा होगी.

क्रेडिट कार्ड इस्तमाल करने से होने वाले नुकसान :

1. अगर दिए हुए टाइम में भुकतान नहीं किया तो हमे उसका ब्याज देना पड़ेगा.

2. इसके जरिए हम सेविंग नहीं कर सकते.

3. क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए हमारे पास जॉब, या अच्छा बिज़नस होना जरुरी है.

Debit Card क्या होता है?

डेबिट कार्ड का मतलब होता है, हमारे खाते से कटोती होना. डेबिट कार्ड भी प्लास्टिक का कार्ड होता है. जो हमारे बैंक अकाउंट से जुडा हुआ होता है. जब भी हम डेबिट कार्ड से शौपिंग, पेमेंट करते है तो हमारे अकाउंट से उनते ही पैसे कम होंते है.

ATM कार्ड को डेबिट कार्ड कह सकते है. जब भी हम कही पर एटीएम का इस्तमाल करते है तो हमारे बैंक अकाउंट से उतने रूपए की कटोती होती है.
डेबिट कार्ड के बहुत से टाइप हमे देखने को मिलते है.

उधाहरण :
Rupay Card, Maestro Card, Master Card, Visa Card ये सभी डेबिट कार्ड है जो हमे अपने बैंक द्वारा प्रोवाइड किए जाते है.

डेबिट कार्ड , क्रेडिट कार्ड से पूरी तरह विपरीत है, याने अगर हमारे बैंक अकाउंट में बैलेंस मौजूद नहीं है, तो हमारा डेबिट कार्ड किसी काम का नहीं है. हम उसके जरिए पैसे नहीं निकाल सकते है. या कोई वस्तुए , सेवाए नहीं खरीद सकते.

डेबिट कार्ड इस्तमाल करने से होने वाले फायदे:

1. डेबिट कार्ड की मदद से हम कही से भी पैसे निकाल सकते है.
2. डेबिट कार्ड से हमारे बैंकिंग के कई व्यवहार हम किसी भी एटीएम सेण्टर से कर सकते है.

डेबिट कार्ड के वैसे तो कोई नुकसान नही है, लेकिन क्रेडिट, डेबिट कार्ड इस्तमाल करते समय हमे सिक्यूरिटी का खास ध्यान रखना पड़ता है. हमारे कार्ड डिटेल्स किसी को भी नहीं देनी चाहिए तथा अपना कार्ड डिटेल्स ऑनलाइन इस्तमाल करते समय वेबसाइट पर भी ध्यान देना पड़ता है.
आपके मन में कोई सवाल हो तो आप कमेंट में हमसे पूछ सकते है.