ITI Fitter Course Details In Hindi

ITI Fitter Course Details In Hindi


ITI fitter course details, आईटीआई में फिटर कोर्स क्या होता है? फिटर किसे कहते हैं ? ITI Fitter में क्या पढ़ाया जाता है? इसके बारे में आज हम आपको जानकारी देने वाले है.

ITI Fitter Course Details In Hindi

हाल ही में 10 वी के छात्रों के एग्जाम में परिणाम आए है, और हम आशा करते है की छात्र अच्छे गुणों से पास भी हो गए होंगे. अब कई छात्र एसे है, जो 10 वी के बाद आईटीआई करना चाहते है. और आईटीआई में खास तौर पर वो फिटर कोर्स/ट्रेड लेना चाहते है.
लेकिन उनको ठीक से पता नहीं है की फिटर क्या होता है? फिटर कोर्स में क्या पढाया जाता है. Fitter Course पूरा करने के बाद क्या जॉब प्राप्त हो सकता है? इन जैसे अगणित सवालो के जवाब उनको हम देने की कोशिश इस पोस्ट में माध्यम से करेंगे.

ITI Fitter Course क्या है?

मशीन, यंत्रो, आदि के पुरजे/पार्ट को बनाने के वाले, फिटिंग करने के लिए, एव उसको तैयार करने वाले वक्ती को फिटर कहा जाता है.
फिटर को आम तौर पर मेटल पर वर्क करना होता है. एक फिटर का काम होता है, मशीन के पुरजे कट करना, उसको गिन के कटना इन जैसे काम होते है.

फिटर कोर्स कितने साल का होता है ?
फिटर कोर्स 2 साल का होता है. जिसमे 4 सेमिस्टर होता है, हर एक सेमिस्टर 6 महीने का होता है.

क्राइटेरिया :
इसके लिए छात्र 10 वी पास होना जरुरी है. 12 वी पास छात्र भी फिटर कोर्स कर सकते है.
फिटर कोर्स में theory के साथ साथ प्रैक्टिकल भी पढाया जाता है, जिसमे ज्यादा तौर पर प्रैक्टिकल पर फोकस किया जाता है.
कोर्स पूरा करने के बाद छात्रों को इसका सर्टिफिकेट भी मिलता है.

कोर्स पूरा करने के बाद क्या करे ?
फिटर कोर्स को पूरा करने के बाद छात्रों को apprenticeship करनी होती है, जो 1 year के लिए कर सकते है. Apprenticeship किसी relevant company में कर सकते है.
Apprenticeship के दौरान छात्रों को 6-7 हजार सैलरी भी मिलती है.

Fitter कोर्स के बाद जॉब के अवसर :

फिटर कोर्स पूरा करने के बाद छात्र apprenticeship करते है, उसके बाद उनको अच्छी जॉब प्राप्त हो सकती है. जॉब के अवसर निचे दी गयी फील्ड में होते है.
Mechanical maintenance जैसे pumps/compressor/turbine/ all type of machinery maintenance work


Structure/pipe fabrication works
बिल्डिंग/रिपेयर

जो छात्र फिटर के बाद जॉब नहीं करना चाहते है , वो आगे के पढाई के लिए जा सकते है. जिसमे वो डिप्लोमा/bachleor डिग्री कर सकते है.

फिटर कोर्स का सिलेबस :

फिटर कोर्स का सिलेबस इंस्टिट्यूट और प्राइवेट, गवर्नमेंट के अनुसार अलग अलग हो सकता है. लेकिन इसमें आम तौर पर एक जैसा ही सिलेबस होता है.

Occupational Safety & Health Importance of housekeeping & good shop floor practices
Welding - Striking and maintaining arc, laying Straight-line bead.
Gas cutting of MS plates
Dovetailed fitting, radius fitting.
Scrape angular mating surface, scrape on internal surface.
Implant training / Project work (work in a team)

दोस्तों अगर आपके पास फिटर कोर्स से जुडी कुछ जानकारी है तो आप हमसे कमेंट के जरिए शेयर कर सकते है.

ADCA Course क्या है? पाठ्यक्रम, Syllabus, Jobs

ADCA Course क्या है? पाठ्यक्रम, Syllabus, Jobs


Advanced Diploma In Computer Application- ADCA Course details in Hindi, Jobs, Course Fees इसके बारे में आज हम आपको जानकारी देने वाले है.
ADCA Course क्या है

ADCA Full Form:

ADCA का Full Form Advanced Diploma In Computer Application है. यह एक कंप्यूटर से जुडा हुआ कोर्स है.
ADCA कोर्स पुरे 1 साल का होता है याने 12 महीने (220 Hrs). जैसे DCA कोर्स है, उसी प्रकार कंप्यूटर एप्लीकेशन में एक advanced कोर्स है.

जिसके लिए छात्र 12 वी पास होना आवश्यक  है.(12 वी किसी भी फील्ड से याने साइंस, कॉमर्स, आर्ट्स)
कोर्स पूरा करने के बाद छात्रों को इसका सर्टिफिकेट भी दिया जाता है. जिसका इस्तमाल छात्र अपने जॉब के लिए कर सकते है.

ADCA Course के लिए फीस:
इस कोर्स की फीस अलग अलग इंस्टिट्यूट के लिए अलग अलग फीस हो सकती है. आम तौर पर इसकी फीस 6000 रूपए तक होती है.

ADCA Course Syllabus/पाठ्यक्रम

इस कोर्स के नाम से हम पता लगता है की कोर्स में किस तरह के सब्जेक्ट होंगे. इसके सभी कंप्यूटर से जुड़े सब्जेक्ट होते है. जैसे
Computer Fundamentals
Windows
MS-Office (Word, Excel, PowerPoint, Access)
Basic of C programming.
Visual Basic
Vb.Net
HTML (Hypertext Markup Language)
Internet & Email
Computer Network & Multimedia Concept
Photoshop CS
C++ Programming

इन विषयो को 2 सेमिस्टर में पढाया जाता है.

ADCA के बाद जॉब के अवसर:

adca कोर्स करने के बाद कंप्यूटर क्षेत्र में कई जहग जॉब के अवसर है.
जैसे
कंप्यूटर ऑपरेटर,
डाटा एंट्री ऑपरेटर,
वेब डिज़ाइनर, डेवलपर
तो दोस्तों आज हमने आपको बताया की ADCA course क्या है ? कोर्स की फीस कितनी है, साथ ही ADCA कोर्स का सिलेबस क्या होगा, इसके अलावा आपके मन में कोई सवाल हो तो निचे कमेंट में हम से शेयर करे.

कंप्यूटर से जुड़े अन्य कोर्स :

Rajasthan Board 10 th Result-RBSE 10th Result कैसे देखे

Rajasthan Board 10 th Result-RBSE 10th Result कैसे देखे


RBSE 10th Result date फिक्स हो गयी है. हम आपको बताएँगे की Rajasthan 10th Board का Result कैसे देखा जाता है? ये भी हमको बताने वाले है.

Rajasthan Board Class 10 को RBSE 10 वी के नाम से भी जाना जाता है. जिन छात्रों ने दसवी बोर्ड की एग्जाम हाल ही में दी है, वो अब नतीजे के इंतजार में है. लेकिन उनका इंतजार अब खत्म हो गया है. क्यों की Rajasthan Board of Secondary Education, (RBSE) ने 10th result की डेट फिक्स कर दी है.


छात्र अपना रिजल्ट 11 जून 2018 को बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर अपना रिजल्ट चेक कर सकते है. जिसके बारे में हम ने पूरी डिटेल्स में आपको निचे बताया है. की कैसे छात्र अपना रिजल्ट ऑनलाइन चेक कर सकते है.
तो चलिए पहले बोर्ड के बारे में जानकारी लेते है.

Board of Secondary Education, (BSER):


BSER को हिंदी में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान कहा जाता है. जो स्कूल स्तर की शिक्षा के लिए शिक्षा बोर्ड है. जिसका मुख्यालय अजमेर में है. BSER बोर्ड की स्थापना December 4, 1957 को हुइ थी.
बोर्ड की आधिकारीक वेबसाइट http://rajeduboard.rajasthan.gov.in/ है.

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान (बीएसईआर) हर साल राजस्थान बोर्ड कक्षा 10 परीक्षा आयोजित करता है.और इस साल राजस्थान बोर्ड ने 15 मार्च से 26 मार्च तक आरबीएसई कक्षा 10 वीं परीक्षा आयोजित की थी. उम्मीदवार राजस्थान बोर्ड कक्षा 10 के लिए भी अपना स्कोर ऑनलाइन चेक कर सकते है.

Rajasthan Board 10th Result 2018

इस साल दसवी के लिए 10 लाख से भी ज्यादा छात्र एग्जाम दे रहे है. छात्र रिजल्ट डिक्लेअर होने के बाद ऑनलाइन अपना रिजल्ट चेक कर सकते है. उसके लिए निचे हम आपको प्रोसीजर बता देंगे जिसको फॉलो कर के आपको रिजल्ट देखना है.
इस साल बोर्ड ने रिजल्ट की डेट फिक्स कर दी है, जो 11 जून 2018 को ऑनलाइन देख सकते है.

पिछले साल का दसवी का स्टेटिस्टिक्स :

Year
सभी Pass स्टूडेंट %
Boys’ %
Girls’  %
टोटल छात्र
2017
78.96
79.01
78.89
10,99,000
2016
75.89
76.02
 75.70
10, 51,105
2015
78.10
77.87
78.41
11,06,048

पिछले साल कुल 10,99,000 छात्रों ने एग्जाम दी थी, जिसमे से ओवरआल 78.96% टोटल स्टूडेंट पास हुए थे, जिनमे से 79.01% लड़के और 78.89% लडकिया पास हुई थी. तो इस साल देखना होगा की इस बार कोण बाज़ी मारता है. लड़के या फिर लडकिया.

Rajasthan Board BSER 10th Result 2018 कैसे चेक करे :

रिजल्ट डिक्लेअर होने के बाद छात्र ऑनलाइन अपना रिजल्ट चेक कर सकते है. इसके लिए निचे दी गयी step फॉलो करे. ठीक 3.15 PM को छात्र अपना रिजल्ट चेक कर सकते है.

step 1:
rajresults.nic.in वेबसाइट को अपने गूगल क्रोम ब्राउज़र में ओपन कर ले.

Step 2:
उसके बाद आपको वहा पर RBSE 10th Result 2018 की लिंक शो होगी उसपर क्लिक करे.

step 3:
क्लिक करने के बाद छात्रों को अपना Enter your Roll Numberडालना है, और सबमिट पर क्लिक करना होगा.
Rajasthan Board 10 th Result-RBSE 10th Result
Rajasthan Board 10 th Result-RBSE 10th Result

step 4:
क्लिक करते ही रिजल्ट आपके सामने होगा, रिजल्ट को प्रिंट कर ले एव अपने कंप्यूटर, मोबाइल में डाउनलोड कर ले.

RSBE 10th Result Check करने की Websites

अगर किसी कारण वश बोर्ड की वेबसाइट आपके मोबाइल में ओपन नहीं हो रही है तो हम आपको दूसरी वेबसाइट के बारे में बताते है, जहा से भी आप अपना रिजल्ट चेक कर सकते है.

1.http://www.rajeduboard.rajasthan.gov.in/
2. http://rajasthan.indiaresults.com/bser/

या फिर जिन छात्रों के पास इन्टरनेट कनेक्शन नहीं है वो अपना रिजल्ट मोबाइल में मेसेज के जरिए भी चेक कर सकते है. उसके लिए निचे दिए गए फॉर्मेट में मेसेज सेंड करना है.

RBSE 10th Result 2018 ON SMS

SMS
RESULT<space>RAJ10<space>ROLL NUMBER
Send it to 56263

RBSE: Rajasthan Board 10th (X) Exam :

Exam Name: Rajasthan Board of Secondary Education, (BSER) Class X Exam: 2018
Exam Date: 15 मार्च से 26 मार्च 2018
Result Date: 11 June 2018 (3.15PM)
Website to check Result: rajresults.nic.in


RTGS Full Form-आर.टी.जी.एस. का फुल फॉर्म

RTGS Full Form-आर.टी.जी.एस. का फुल फॉर्म


RTGS Ka Full Form, RTGS का क्या मतलब होता है? बैंक में आपने कई बार RTGS शब्द के बारे में सुना होगा. तो चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते है.

RTGS Full Form

RTGS Full Form

RTGS का फुल फॉर्म : Real time Gross Settlement होता है.
RTGS एक मनी ट्रान्सफर सिस्टम है, जिसका प्रयोग एक बैंक अकाउंट से दुसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर करने के लिए होता है. याने RTGS फण्ड ट्रान्सफर के लिए इस्तमाल किया जाता है.

याने रियल टाइम में ग्रॉस बेसिस पर एक बैंक से दुसरे बैंक में मनी ट्रान्सफर करने के लिए RTGS use किया जाता है.
RTGS का इस्तमाल बड़ी अमाउंट ट्रान्सफर करने के लिए use किया जाता है.

अगर हमे RTGS से पैसे ट्रान्सफर करना चाहते है तो उसके लिए हमे रिसीवर का बैंक अकाउंट नंबर , नाम और IFSC code की जरुरत पड़ती है.

RTGS के चार्जेज :

RTGS से पैसे ट्रान्सफर करने पर हमे चार्ज लगता है, चार्ज कुछ इस तरह होता है:
RTGS से हम minimum 2 लाख रूपए सेंड कर सकते है, और maximum 10 लाख रूपए तक मनी ट्रान्सफर कर सकते है.
Transaction fee -Between Rs.2 lakh up to Rs.5 lakh - Rs.25
                           From Rs.5 lakh up to Rs.10 lakh - Rs.50

RTGS से मनी तुरंत ट्रान्सफर हो जाते है, जिसको हम बैंकिंग के समय में 8:00 a.m. - 4:00 p.m और Saturdays: 9:00 a.m - 4:30 p.m को मनी ट्रान्सफर कर सकते है. रविवार को बैंक हॉलिडे होता है, इसलिए RTGS का इस्तमाल उस दिन हम नहीं कर सकते.

Also Read:


Computer Full Form-कंप्यूटर का फुल फॉर्म

Computer Full Form-कंप्यूटर का फुल फॉर्म


Computer Ka Full Form, Computer Ka full form kya hota hai? कंप्यूटर का फुल फॉर्म.
Computer Full Form-कंप्यूटर का फुल फॉर्म
Computer Full Form-कंप्यूटर का फुल फॉर्म

क्या आप इन्टरनेट पर कंप्यूटर के फुल फॉर्म के बारे में सर्च कर रहे है? अगर हा तो चलिए हम आपको कंप्यूटर के फुल फॉर्म के बारे में बताते है.

कंप्यूटर का फुल फॉर्म :

Computer-
C-Commonly
O-Operated
M-Machine
P-Particularly
U-Used for
T-Technology
E-Education and
R-Research


तो इसको हिंदी में हमे ये कह सकते है की कंप्यूटर एक कॉमनली ऑपरेटड मशीन है तो आम तौर पर टेक्नोलॉजी , एजुकेशन और रिसर्च में इस्तमाल की जाती है.

लेकिन कंप्यूटर की असल परिभाषा और ही है, जो इससे पहले वाली पोस्ट में हम ने आपको बताई है.
कंप्यूटर के इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो यूजर से इनपुट के रूप में डाटा लेता है, उसपर प्रोसेस कर के आउटपुट डिवाइस के माध्यम से यूजर को आउटपुट देता है.

कंप्यूटर के प्रमुख पार्ट:

Keyboard
Mouse
Sound,
CPU,
Monitor
Etc.
Computer कई टाइप्स के होते है, जैसे डेस्कटॉप कंप्यूटर, नोटबुक, लैपटॉप, टेबलेट, PDA, सुपर कंप्यूटर, मेनफ़्रेम, वर्कस्टेशन आदि.
कंप्यूटर का इस्तमाल आज हमे कई जगह पर देखने को मिलता है, शिक्षा के लिए, ऑफिस में, हॉस्पिटल में. कंप्यूटर और लैपटॉप का इस्तमाल हम म्यूजिक सुनने के लिए, विडियो देखने के लिए, गेम खेलने के लिए भी करते है.

आज सभी काम इन्टरनेट और कंप्यूटर के माध्यम से ही पुरे होते दिखाई दे रहे है, जैसे मोबाइल का बिल, लाइट का बिल, रेल्वे टिकेट का आरक्षण करना ये सभी काम हम कंप्यूटर की मदद से करते है.

शुरू शुरू में कंप्यूटर काफी महंगे थे, लेकिन आज कंप्यूटर की कीमत इतनी कम है, हर किसी के घर में हमे कंप्यूटर देखने को मिलता है.
कंप्यूटर के जनक चार्ले ब्याबेज को कहा जाता है. बाद में कंप्यूटर में काफी बदलाव होते गए, जिसमे कई लोगो का योगदान रहा.

कंप्यूटर से जुड़े हमारे और लेख :