Bank में Mobile Number Change करने के लिए एप्लीकेशन

Bank में Mobile Number Change करने के लिए एप्लीकेशन


Bank me mobile number change application in Hindi | application bank manager change mobile number in Hindi.
Bank me mobile number change application in Hindi

अगर आपका मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से लिंक है और आप उस मोबाइल नंबर को change करना चाहते है, तो उसके लिए आपको बैंक मेनेजर को एप्लीकेशन देना पड़ता है. वो एप्लीकेशन किस प्रकार और किस फॉर्मेट में होता है, वो आपको निचे दिया गया है.

Bank में Mobile Number Change करने के लिए एप्लीकेशन

वैसे तो बैंक अकाउंट से जुडा जो मोबाइल नंबर है उसको हम 2,3 तरीको से change कर सकते है. जिसमे पहला आप्शन है, एटीएम पर जाकर अपना मोबाइल नंबर अपडेट करना.
दूसरा आप्शन है : अगर आपके पास internet banking सर्विस एक्टिवेट है, तो आप ऑनलाइन अपना मोबाइल नंबर change कर सकते है.
तीसरा तरीका : सिंपल अपनी बैंक में जाकर मोबाइल नंबर बदलने का एप्लीकेशन देकर.
पहिला और दूसरा तरीका भी आप आजमा सकते है. लेकिन तीसरा सिंपल तरीका है जिसके बारे में हम यहाँ पर बता रहे है.


आपको मोबाइल नंबर change करने के लिए बैंक में जाकर एप्लीकेशन देना होगा.

Application to Bank Manager Change Mobile Number In Hindi.

सेवा में ,
शाखा प्रबंधक ,
Bank Name, Address लिखे
विषय – bank अकाउंट से जुड़े मोबाइल नंबर को change करने हेतु आवेदन  
महोदय,

सविनय निवेदन है कि, मैं उमेश (अपना पूरा नाम लिखे) आपके बैंक का कस्टमर हु. पिछले एक साल से मेरा अकाउंट आपके बैंक में है.

मुझे अपने खाते से जुड़ा मोबाइल नंबर change (बदलना) है. क्यों की मेरा पुराना मोबाइल नंबर गुम हो गया है. आपसे निवेदन है कि आप हमारे खाते का पुराने मोबाइल नंबर को बदलने की कृपा करे. इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे.
पुराना मोबाइल नंबर :
नया मोबाइल नंबर :

धन्यवाद !
आपका विश्वासु,
नाम - अपना नाम लिखे.
पता : अपना पता लिखे
बैंक अकाउंट नंबर :
मोबाइल नंबर :(नया मोबाइल नंबर डाले)
हस्ताक्षर : अपनी sign करे.

यह एप्लीकेशन फॉर्मेट आप किसी भी बैंक में इस्तमाल कर सकते है. चाहे आपका खाता स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में हो, बैंक ऑफ़ इंडिया में हो, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक में हो या फिर पंजाब नेशनल बैंक में है.
आपको सिर्फ ऊपर दिए गए एप्लीकेशन में अपनी सही जानकारी भरनी है और अपने बैंक की जो ब्राँच हिया, जहा आपका खाता है वहा पर जाकर सबमिट करना है.
आपका मोबाइल नंबर 24 hours में अपडेट हो जायेगा.



NASA Full Form In Hindi-नासा का फुल फॉर्म क्या है?

NASA Full Form In Hindi-नासा का फुल फॉर्म क्या है?


What is the NASA Full Form in Hindi? क्या आप नासा के फुल फॉर्म के बारे में जानते है? नहीं तो चलिए जान लेते है.
NASA Full Form In Hindi

NASA Full Form In Hindi

नासा का फुल फॉर्म National Aeronautics and Space Administration है, जिसको हिंदी में राष्ट्रीय वैमानिकी और अन्तरिक्ष प्रबंधन कहा जाता है.
जिसको शोर्ट में हम Nasa कहते है. नासा एक अमेरिका सरकार की शाखा है. इसका काम होता है, अंतरिक्ष कार्यक्रमों व एरोनॉटिक्स व एरोस्पेस संशोधन करना. नासा की शुरवात 1958 में शुरू की गई.


नासा का मुख्या उद्देश, काम होता है स्पेस में रिसर्च करना, इसमें कई विज्ञानिक इसके लिए काम करते है. नासा में करीबन 18800 से अधिक employee काम करते है.

NASA ने अभी तक कई मिशन कम्पलीट की है जैसे, Apollo Moon landing missions, Skylab space station, Space Shuttle.
क्या आप जानते है की चाँद पर जाने वाला प्रथम वक्ती अपोलो यान द्वारा भेजा गया था, जो की नासा का ही मिशन था.

नासा के मिशन की लिस्ट :

नासा ने अभी तक कई सफल मिशन पुरे किये है, जिसके बारे में आपको निचे यहाँ बता रहे है.
1. Pioneer 10 और Pioneer 11
1972 and 1973 में पायनियर 10 और पायनियर 11 को स्पेस में छोड़ा गया था. पायनियर 10 सौर मंडल के क्षुद्रग्रह बेल्ट, मंगल और बृहस्पति के बीच चट्टानों के एक क्षेत्र के माध्यम से यात्रा करने की पहली जांच थी. लगभग एक साल बाद, पायनियर 11 बृहस्पति द्वारा उड़ान भर गया, और फिर शनि में चले गए.

2. Voyager
पायनियर के बाद Voyager 1 and Voyager 2 को स्पेस में छोड़ा गया. जिसने 10 नए चंद्रमा, और नेप्च्यून की खोज की.

3.Apollo
अपोलो प्रोग्राम, जिसे प्रोजेक्ट अपोलो भी कहा जाता है, नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा किए गए तीसरे संयुक्त राज्य अमेरिका मानव अंतरिक्ष कार्यक्रम था, जिसने 1 9 6 9 से 1 9 72 तक चंद्रमा पर पहले इंसानों को लैंडिंग पूरा किया.

PDF full form in Hindi-पीडीएफ़ फुल फॉर्म

PDF full form in Hindi-पीडीएफ़ फुल फॉर्म


PDF का फुल फॉर्म क्या होता है? पीडीएफ़ का मतलब क्या होता है? पीडीएफ़ मीनिंग इन हिंदी. आज इन्टरनेट, कंप्यूटर, स्मार्ट फ़ोन का जमाना चल रहा है.

PDF full form in Hindi

आपने कई बार pdf फाइल का नाम सुना होगा, उसको अपने कंप्यूटर और मोबाइल में खोला होगा. लेकिन क्या आप pdf फाइल के बारे में जानते है? की आखिर pdf फाइल क्या होती है? pdf फाइल कैसे बनायीं जाती है? और pdf फाइल क्यों बनाई जाती है? तो चलिए इसके बारे में पूरी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर लेते है.


PDF full form in Hindi
PDF: Portal Document Format
pdf का मतलब होता है पोर्टेबल डॉक्यूमेंट फॉर्मेट, यह एक डॉक्यूमेंट का फॉर्मेट है. आपको पता ही होगा की फाइल और डॉक्यूमेंट को हम अलग अलग फॉर्मेट में सेव कर सकते है.
जैसे .doc, .xls, .jpeg उसी प्रकार हम डॉक्यूमेंट को .pdf फॉर्मेट में सेव कर सकते है. पीडीएफ याने पोर्टेबल डॉक्यूमेंट फॉर्मेट है, याने जिसको हम एक जगह से दूसरी जगह आसानी से ले जा सकते है.


तो अब आपके मन में सवाल आएगा की pdf फाइल बनाने की जरुरत क्या है?

जब की हम किसी फाइल को .doc फॉर्मेट में याने ms-word फॉर्मेट में सेव कर सकते है तो pdf फाइल की क्या जरुरत?

1.पीडीएफ फाइल इसलिए बनाई जाती है ताकि उसको कोई edit ना कर पाए.
2. pdf फाइल इसलिए बनाई जाती है, क्यों की कई बार जब हम अपनी लोकल भाषा में जैसे (हिंदी, मराठी, गुजराती) में लिखते है तो अलग अलग फॉण्ट का इस्तमाल करते है. लेकिन अगर उस फॉण्ट की फाइल को pdf में ना सेव करे तो किसी दुसरे कंप्यूटर में अगर वो फॉण्ट नहीं है तो वो डॉक्यूमेंट हमे ठीक से दिखाई नहीं देगा.
इसलिए लोकल भाषा में लिखे हुए फॉण्ट की फाइल को pdf में save करने पर वो आसानी से किसी भी कंप्यूटर में देख सकते है.
3. किसी भी प्लेटफार्म पर pdf फाइल वर्क करती है, जैसे मान लीजिये आपने pdf फाइल windows operating system में क्रिएट की और उसको MAC OS में खोला तो आपको वो फाइल वैसे ही मिलेगी.

PDF के बारे में जरुरी जानकारी :

अगर हमे pdf फाइल को पढ़ना है तो हमारे पास adobe acrobat reader की जरुरत होती है.
pdf फाइल का निर्माण International Organization for Standardization (ISO) ने 15 June 1993 में किया.
3.अगर आपके पास adobe acrobat reader नहीं है तो आप pdf फाइल को किसी भी ब्राउज़र में खोल सकते है. जैसे (गूगल क्रोम, mozilla firefox, ओपेरा मिनी)

PDF फाइल कैसे बनाई जाती है?

दोस्तों अगर आप भी pdf फाइल बनाने के बारे में सोच रहे हिया तो चलिए हम आपको pdf फाइल कैसे बनाई जाती है, इसके बारे में जानकारी दे देते है.
पीडीएफ फाइल बनाने के लिए आज मार्किट में अलग से software भी मिल जाते है.

1.DoPDF
2.SmallPDF

अगर आप ऑफलाइन वर्क करते है तो आप ऑफलाइन भी pdf फाइल बना सकते है. जैसे आप adobe Photoshop में pdf फाइल बना सकते है.

आपके पास माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का लेटेस्ट वर्शन है तो उसके भी आप आसानी से pdf फाइल बना सकते है.
MS word में pdf फाइल कैसे बनाए? यहाँ से पूरा टुटोरिअल पढ़ सकते है.

Refurbished meaning in Hindi

Refurbished meaning in Hindi


दोस्तों कई बार हम नए शब्द सुनते है जिनके बारे में हमे पता नहीं होता है. जैसे आपने कभी Refurbished शब्द भी सुना होगा. तो क्या आपको Refurbished का मीनिंग पता है?
Refurbished meaning in Hindi
Refurbished meaning in Hindi

हम कई बार किसी शॉप पर जाते है तभ हमे Refurbished शब्द सुनने को मिलता है. जैसे कभी आप मोबाइल शॉप या फिर computer शॉप पर जाते है तभ आपने Refurbished शब्द के बारे में सुना होगा. तो आज हम इसी के बारे में जानकारी लेने वाले है.

Refurbished meaning in Hindi

सबसे पहले इसके हिंदी मीनिंग के बारे में जान लेते है.
Refurbished का मतलब:
नए से बनाना,
नया करना,
पुराने को नया बनाना

तो चलिए इसको एक example से समझ लेते है.
क्या आप ऑनलाइन शौपिंग करते है. जैसे मोबाइल, लैपटॉप आदि. तो चलिए मान के चलते है की आप को एक मोबाइल ऑनलाइन खरीदना है.
तो आपको एक मोबाइल की कीमत 6000 दिखाई देगी तो वही मोबाइल 4000 में मिल रहा है. एसा कैसे? वो जो 4000 में मिल रहा मोबाइल है वो Refurbished है.

चलिए इसको थोडा डिटेल्स में जान लेते है. मान लीजिए आपने के नया मोबाइल 6000 में खरीद लिया. और उस मोबाइल के साथ आपको 10 डे की रिप्लेसमेंट policy भी है. तो इसमें आपने क्या किया की 7 दिन मोबाइल इस्तमाल किया लेकिन आपको मोबाइल कुछ अच्छा नहीं लगा. और आपने ऑनलाइन वेबसाइट को return कर दिया.(रिप्लेसमेंट policy के तहत)

तो वो ऑनलाइन वेबसाइट क्या करती उस मोबाइल को न्यू मोबाइल की केटेगरी में नहीं बेच सकते. क्यों की वो इस्तमाल हुआ है. तो वो उसको Refurbished केटेगरी में डाल देते है. और उसकी कीमत थोड़ी कम कर देते है.
उस मोबाइल को फिर से बॉक्स में पैक कर के कस्टमर को दिया जाता है.

दूसरा example : हम जो चीज़े खरीदते है, उसके साथ में वार्रेंटी दी जाती है. अगर वार्रेंटी के अन्दर वो चीज़ ख़राब हो जाती है, तो हम जहा से चीज़ खरीदी है उसको वापिस करावा देते है.
वो लोग वो वस्तु वापिस ले लेते है और कंपनी में return भेज देते है. कंपनी इस वस्तु को Refurbished(नया बनाकर) फिर से बजार में भेज देते है.
तो दोस्तों अब आप समझ गए होंगे की Refurbished शब्द का क्या मतलब होता है. फिर भी आपके मन में कोई सवाल है तो आप निचे कमेंट में हम से शेयर कर सकते है.

RSVP Full Form In Hindi-rsvp का मतलब

RSVP Full Form In Hindi-rsvp का मतलब


RSVP के बारे में आपने कई बार सुना होगा या फिर कही फेसबुक पर पढ़ा होगा, जिसके बारे में आप जानना चाहते होंगे की RSVP का Full Form क्या होता है
RSVP Full Form In Hindi

आपने खास तौर पर इसको शादी के कार्ड पर देखा होगा, या फिर किसी कार्यक्रम का आपको इनविटेशन मिला होगा जिसके कार्ड पर आपको RSVP देखने को मिला होगा. तो आखिर इस rsvp का मतलब क्या होता है. इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेते है.

RSVP Full Form In Hindi

RSVP एक French phrase है जिसको  "Repondez Sil Vous Plais" कहा जाता है. याने RSVP का Full Form होता है, Repondez Sil Vous Plais.

जिसका English में translation: "Reply If You Please
जिसका हमारे हिंदी भाषा में हम कह सकते है आप उत्तर दे. RSVP आम तौर पर शादी के कार्ड, किसी समारोह के इनविटेशन कार्ड, पार्टी के कार्ड पर निचे लिखा जाता है.

आज लोग अपने शादी का ई-कार्ड बना कर अपने दोस्तों के साथ फेसबुक, whatsapp या फिर ईमेल पर भेज रहे है. जिसमे लास्ट में लिखा होता है, RSVP.


RSVP इसलिए लिखा जाता है, ताकि जो शादी ऑर्गेनाइजर है, या फिर इवेंट आर्गेनाइजर है, उसको पता लग जाता है कितने लोग इवेंट अटेंड करने वाले है. जो लोग अटेंड करने वाले है वो सिम्पली इसका रिप्लाई दे. इस तरह का इसका सीधा सा मतलब हो जाता है.

RSVP शादी के कार्ड पर क्यों इस्तमाल किया जाता है? rsvp full form in invitation card in hindi

RSVP शादी के कार्ड पर इसलिए इस्तमाल किया जाता है की जो शादी का कार्ड भेजने वाला वक्ती है, वो आशा करता है की जिसने उसको कार्ड भेजा है, वो वक्ती रिप्लाई करे और बताए की वो शादी पे आने वाला है या नहीं.
इससे क्या होगा की कार्ड भेजना वाला वक्ती कितने लोग आने वाले है उसका अनुमान लगा पायेगा और उतने वक्ती का ठीक से नियोजन कर पायेगा.
तो अब आपको पता चल गया होगा की आखिर RSVP शादी के कार्ड पर किसलिए इस्तमाल किया जाता है.

ITI के बाद क्या करे? करियर, नौकरी

ITI के बाद क्या करे? करियर, नौकरी


जो छात्र आईटीआई कर चुके है या कर रहे है वो आईटीआई के बाद जो करियर है, उसकी चिंता में है. की आगे चल के ITI के बाद क्या करे? आईटीआई पूरा करने के बाद क्या जॉब करना चाहिए या फिर आगे पढाई करनी होगी?
ITI के बाद क्या करे?

इन जैसे कई सवाल ITI करने वाले छात्रों के मन में होंगे.अगर आपका भी सवाल इन में से है तो यह आर्टिकल आपके लिए है , जिसमे हम ए बताने की कोशिश करेंगे की ITI के बाद क्या करे? आईटीआई के बाद कोण सा कोर्स/diploma करे, या फिर apprenticeship करे.

ITI के बाद क्या करे

1.ITI के बाद apprenticeship :
जिन छात्रों ने आईटीआई पूरा किया है, चाहे वो किसी भी ट्रेड से हो, इलेक्ट्रीशियन, फिटर, वेल्डर या फिर कोई और. ट्रेड को पूरा करने के बाद छात्र को सबसे पहले अपनी फील्ड से जुड़े क्षेत्र में apprenticeship करनी चाहिए. Apprenticeship गवर्नमेंट एव प्राइवेट दोनों सेक्टर में कर सकते है. जिसके चलते छात्रों को काम करते हुए सैलरी भी शुरू हो जाती है.
जो छात्र ट्रेड और apprenticeship पूरी करते है बाद में इनको गवर्नमेंट एव प्राइवेट सेक्टर में अच्छे जॉब प्राप्त हो जाते है.

2.आईटीआई के बाद जॉब :
आज हम सभ जानते है आईटीआई की डिमांड दिन ब दिन कितनी बढ़ती जा रही है. इसी को देखते हुए छात्र आईटीआई को अपने करियर के तौर पर सेलेक्ट कर रहे है. तो कई स्टूडेंट आईटीआई के बाद तुरंत जॉब प्राप्त करना चाहते है, जिसके चलते वो आईटीआई को चुनते है.
इसलिए आईटीआई के बाद क्या करना है ए उन छात्रों को लिए बिलकुल क्लियर डिसीजन है जीनोने पहले से जॉब का मन बना लिया है.

आईटीआई के बाद छात्रों को प्राइवेट एव गवर्नमेंट सेक्टर दोनों में जॉब के अवसर है.
आईटीआई के बाद गवर्नमेंट जॉब की तैयारी भी कर सकते है, जिसके चलते आईटीआई के बाद railway, army, banking सेक्टर में भी जॉब प्राप्त कर सकते है.

3.आईटीआई के बाद कोर्स/diploma:
छात्र 10 वी के बाद 1 या फिर 2 साल का आईटीआई ट्रेड/कोर्स पूरा कर लेते है. जिसके बाद उनको लगता है की, अभी उनको आगे पढ़ना चाहिए, अपने नॉलेज को बढ़ाना चाहिए.
इसलिए आईटीआई के बाद छात्र कई course/diploma कर सकते है. कुछ कोर्स/diploma में आईटीआई के चलते छुट भी मिल जाती है.
कई यूनिवर्सिटी आईटीआई इलेक्ट्रीशियन ट्रेड पूरा करने के बाद polytechnic में डायरेक्ट 2nd इयर में एडमिशन मिल जाता है.
आईटीआई पूरा होने के बाद छात्र computer courses भी कर सकते है. जिसकी जानकारी आप यहाँ से पढ़ सकते है.

4.आईटीआई के बाद अपना खुद का बिज़नस:
कुछ छात्रों को जॉब करना अच्छा नहीं लगता, क्यों की जॉब में हम किसी के निचे रहकर काम करना पड़ता है. इसलिए छात्र अपना खुद का बिज़नस करने के बारे में सोचते है.
लेकिन बिज़नस के लिए थोड़ी बहुत इन्वेस्टमेंट करनी पड़ती है और साथ में बिज़नस के लिए लोन भी निकालना पड़ता है. याने बिज़नस करने के लिए थोडा रिस्क लेना पड़ता है. बिज़नस करने के लिए पहले 2 या 4 साल का अनुभव भी होना जरुरी है.


जिसके चलते आईटीआई स्टूडेंट अपना खुद का बिज़नस शुरू कर सकते है. जिसमे में वे अपना खुद का इलेक्ट्रिक चीजों का दुकान, फर्नीचर का दुकान, वेल्डिंग का दुकान, कोपा वाले छात्र अपना साइबर कैफ़े शुरू कर सकते है.
आईटीआई के बाद कई सारे बिज़नस छात्र कर सकते है. अपने अपने ट्रेड के हिसाब से वे अपनी बिज़नस फील्ड चुने.

आईटीआई के बाद क्या करे इससे जुड़े कुछ सवाल-जवाब:

1.इलेक्ट्रीशियन से आईटीआई पूरा किया है अब आगे क्या करे?
जवाब: इलेक्ट्रीशियन ट्रेड पूरा हो जाने के बाद apprenticeship करे, उसके बाद जब जब govt. जॉब की vacancy निकले अप्लाई कर दे. या फिर प्राइवेट सेक्टर में अप्लाई करे.

2.आईटीआई के बाद ग्रेजुएशन कर सकते है?
जवाब: जी हा, कर सकते है.
दोस्तों इसके अलावा आपके मन में आईटीआई से जुड़ा कोई सवाल है तो निचे कमेंट में हमे बताए.


CRPF क्या है? CRPF Full Form In Hindi

CRPF क्या है? CRPF Full Form In Hindi


CRPF याने Central Reserve Police Force जिसको केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल कहा जाता है. इसके बारे में आज जानकारी लेने वाले है.
CRPF Full Form In Hindi

CRPF क्या है? CRPF Full Form In Hindi           

CRPF Full Form: Central Reserve Police Force    
केंद्रीय रिज़र्व पुलिस दल भारत के पुलिस दलों में से सबसे बड़ा दल है. जो भारत सरकार के गृह मंत्रालय के तहत काम करता है.
CRPF आर्मी की तरह ही होता है. लेकिन इनका काम अलग होता है. CRPF का काम होता है, संघ और केंद्र शाशित प्रदेशो में पुलिस की मदद करना.

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का मिशन सरकार को राष्ट्रीय अखंडता को संरक्षित करने और संविधान की सर्वोच्चता को कायम रखकर

सामाजिक सद्भाव और विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रभावी ढंग से और कुशलता से कानून, सार्वजनिक आदेश और आंतरिक सुरक्षा के नियम को बनाए रखना.
CRPF का मुख्यालय नयी दिल्ली, भारत में है, और CRPF की अधिकारी वेबसाइट https://crpf.gov.in/ है.

CRPF में जॉब के लिए क्राइटेरिया :

जिन छात्रों को CRPF में जॉब करना है, उनके लिए निचे दिया हुआ क्राइटेरिया है.
छात्र के पास Intermediate/10+2 के साथ टाइपिंग (35-40 words per minute in English और 25-30 words per minute in Hindi; shorthand 80 words per minute) Assistant Sub Inspector (Stenographer) के लिए जरुरी है.


जिसमे age लिमिट 18-25 साल है.

और आपकी बॉडी
A minimum of 170 cms height.
Chest-81 cms.
तो वही Women के लिए
A minimum of 157 cms. Of height होनी चाहिए.
CRPF में समय समय पर जॉब recruitment होती रहती है, जिसके notification crpf की वेबसाइट पर देखने को मिल जाएगी.

यह भी पढ़े :